सोमवार, 16 जनवरी 2017

🚩🔱 ❄ «ॐ»«ॐ»«ॐ» ❄ 🔱🚩

 🌹🌸🌹संत अमृत वाणी🌹🌸🌹
※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※
  🌹🌟 राधे नाम संग हरि बोल 🌟🌹
 ※❖ॐ∥▩∥श्री∥ஜ ۩۞۩ ஜ∥श्री∥▩∥ॐ❖※

🌹सत्संगसे लाभ कैसे लें ?

( गत ब्लॉग से आगे )

परमात्मा कभी हमारेसे अलग नहीं होते । उनको हम जानें तो हमारे साथ हैं, हम न जानें तो हमारे साथ हैं; हम उनके सम्मुख हो जायँ तो हमारे साथ हैं, उनसे विमुख रहें तो हमारे साथ हैं । जहाँ मैं हूँ, वहाँ भी परमात्मा हैं । जो ‘हूँ’ है, वह ‘है’‒(परमात्मा) के साथ हैं । इस ‘हूँ’ को शरीरके साथ मान लेते हैं‒यह गलती है । परमात्मा यहाँ हैं, अभी हैं, मेरेमें हैं, मेरे हैं‒इस बातको पकड़ लो । ये बातें सीखनेके लिये और सुनने-सुनानेके लिये नहीं हैं । ये पकड़नेकी, स्वीकार करनेकी बातें हैं । संसारकी बातोंमें उलझ करके उनमें भी दो बातें कर लेते हो अर्थात्‌ सुख और दुःख, अनुकूल और प्रतिकूल‒ये दो मान्यताएँ कर लेते हो, इससे बड़ा भारी बन्धन होता है । इन दो चीजोंसे अर्थात्‌ द्वन्द्वोंसे रहित होनेसे मनुष्य सुखपूर्वक बन्धनसे मुक्त हो जाता है‒
‘निर्द्वन्द्वो हि महाबाहो सुखं बन्धात्प्रमुच्यते’ (गीता ५/३) ।
 इसलिये द्वन्द्वोंमें नहीं फँसना चाहिये ।

संसारकी किसी समाज-सम्बन्धी बातको लेकर कोई कहता है कि यह ठीक है और कोई कहता है कि यह बेठीक है, तो वास्तवमें वे दोनों ही बेठीक हैं; क्योंकि दोनोंसे मुक्ति तो होती नहीं ! केवल संसारमें फँसनेका तरीका है । संसारकी दो बातोंको लेकर उनमेंसे किसी एक बातको पकड़ लेते हैं तो बड़ी भारी हानि होती है । इससे कल्याण नहीं होता । व्यवहारमें जो बात ठीक है, उसको कर लें, पर उसको पकड़ें नहीं । वह बात ठहरेगी नहीं, रहेगी नहीं और परमात्मा रहेंगे । परमात्माका सम्बन्ध कभी छूटेगा नहीं । संसारके साथ हमारा सम्बन्ध है ही नहीं । उस संसारमें अच्छा और मन्दा क्या, ठीक और बेठीक क्या, पूरा-का-पूरा बेठीक है । अब ये कहते हैं कि हम तो गृहस्थी हैं । अगर गृहस्थी हो तो अच्छा काम करो, फँसते क्यों हो ? काम गृहस्थीको भी करना है और साधुको भी करना है, पर फँसना नहीं है । मान और अपमान‒दोनोंको बराबर समझना है । ये दोनों ही तुल्य हैं‒
‘मानापमानयोस्तुल्यः’ (गीत १४/२५) ।
जिस जातिका मान है, उसी जातिका अपमान है । ये दोनों ही ताज्य हैं । न मान ग्राह्य है और न अपमान ग्राह्य है । इसमें क्या राजी और क्या नाराज होवें ?
‘किं भद्रं किमभद्रं वा’ (श्रीमद्भागवत ११/२८/४)
‒क्या ठीक और क्या बेठीक ?

गीतामें आया है‒
‘सुखदुःखे समे कृत्वा लाभालाभौ जयाजयौ’ (गीता २/३८) ।
तो ‘समे कृत्वा’ का अर्थ क्या हुआ ? कि जय हो गयी तो क्या और पराजय हो गयी तो क्या ? लाभ हो जाय तो क्या और हानि हो गयी तो क्या ? सुख हो तो क्या और दुःख हो तो क्या ? ये तो मिटनेवाले हैं । रहनेवाली न जय है, न पराजय है, न लाभ है, न हानि है, न सुख है, न दुःख है । वक्तपर जो काम आया, उसे निर्लेप होकर कर दिया, बस । अतः संसारके संयोग-वियोगको महत्त्व मत दो । फिर यह सत्संगवाली स्थिति हो जायगी । परन्तु संसारके संयोग-वियोगको महत्त्व दोगे तो सत्संगकी बात स्थायी होनेके लिये आपको वक्त ही नहीं मिलेगा !

भगवान्‌ने भी आरम्भमें ही कह दिया‒
‘आगमापायिनोऽनित्यास्तांस्तितिक्षस्व’ (गीता २/१४)
अर्थात्‌ ये सांसारिक चीजें आने-जानेवाली और अनित्य हैं, इनको तुम सह लो । सहनेका अर्थ है कि तुम विकृत मत होओ, राजी-नाराज मत होओ । ये सांसारिक पदार्थ जिसको व्यथा नहीं पहुँचाते, वह मुक्तिका पात्र होता है‒
‘यं ही न व्यथयन्त्येते.....सोऽमृततत्वाय कल्पते’ (गीता २/१५)
 और जिसको ये व्यथा पहुँचाते हैं, उसकी मुक्ति नहीं होती । मान अच्छा है, अपमान खराब है‒इसको पकड़ लिया तो मुक्तिसे वंचित रह गये । ये मान-अपमान आदि आपको धोखा देनेवाले हैं । ये तो रहेने नहीं, पर आपको मुक्तिसे वंचित कर देंगे । इसलिये ठीक-बेठीक सब ताज्य है, छोड़नेकी चीज है । हम इनसे छूटें कैसे ? कि हम सम रहें । आप अपनी तरफ खयाल करें । मानके समय आप दूसरे और अपमानके समय आप दूसरे होते हो क्या ? इसलिये इनको न देखकर अपनेमें स्थित रहो, ‘स्व’ में स्थित रहो‒
‘समदुःखसुखः स्वस्थः’ (गीता १४/२४) ।
 इस ‘स्व’ में स्थितिको ही सत्संगके द्वारा पकड़ना है । सत्संगकी बातोंका सुख नहीं लेना है ।

नारायण ! नारायण !! नारायण !!!

‒ ‘भगवत्प्राप्तिकी सुगमता’ पुस्तकसे

 ※❖ॐ∥▩∥श्री∥ஜ ۩۞۩ ஜ∥श्री∥▩∥ॐ❖※
 🌹۞☀∥ राधेकृष्ण: शरणम् ∥☀۞🌹
 ※❖ॐ∥▩∥श्री∥ஜ ۩۞۩ ஜ∥श्री∥▩∥ॐ❖※

🌹: कृष्णा :: श्री राधा प्रेमी :🌹
https://plus.google.com/113265611816933398824

          🌹एक बार प्रेम से बोलिए ..
          🌸 जय जय " श्री राधे ".....
          🌹प्यारी श्री .....  " राधे "🌹
※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें