सोमवार, 1 अगस्त 2016

🚩🔱 ❄ «ॐ»«ॐ»«ॐ» ❄ 🔱🚩

※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※
  🌹🌟 राधे नाम संग हरि बोल 🌟🌹
 ※❖ॐ∥▩∥श्री∥ஜ ۩۞۩ ஜ∥श्री∥▩∥ॐ❖※

   🌹🔱💧संत अमृत वाणी💧🔱🌹

🌹सांसारिक सुख दुःखों के कारण हैं :

(गत ब्लॉगसे आगेका)

सांसारिक पदार्थोंके पासमें होनेसे जिसे अभिमान होता है, वह हिंसा करता है । ऐसे ही जिसे गुणोंका अभिमान है, वह भी हिंसा करता है । गुण तो आने-जानेवाले हैं, उनको लेकर अभिमान करता, तो जिनके पास वे गुण नहीं हैं, उनके मनमें जलन पैदा होती है; क्योंकि वे किसीसे कम तो हैं नहीं । सब-के-सब परमात्माके अंश हैं; अतः स्वरूपसे समान हैं । आने-जानेवाले पदार्थोंसे अपनेको सुखी मानना भूल है । जो अपनेको बड़ा और दूसरेको नीचा समझकर दूसरोंका तिरस्कार करता है, वह भी हिंसा करता है । अपनेमें दूसरोंकी अपेक्षा विशेषताका अनुभव करना भी भोग है, और उससे दूसरोंकी हिंसा होती है । मान-बड़ाईका सुख भोगनेवाला भी हिंसा करता है; क्योंकि वह अपनेको मान-बड़ाईके योग्य समझकर अभिमान करता है । वह सोचता है कि कहीं दूसरेकी बड़ाई हो जायगी तो मेरी बड़ाईमें धब्बा लगेगा । ऐसे ही काम-धन्धा न करनेवाला मनुष्य आलस्यका सुख लेता है तो दूसरे कहते हैं कि हम तो मेहनत करते हैं और यह आरामसे बैठा माल खाता है तो यह भी हिंसा है । तो सांसारिक सुखोंको भोगनेवाला व्यक्ति खुद तो दुःख पाता ही है, दूसरोंको भी दुःखी करता है ।

सभी भोग दुःखोंके कारण है ।सांसारिक सुख पहले भी नहीं थे और बादमें भी नहीं रहेंगे । स्वयं अविनाशी होते हुए भी ऐसे नाशवान् सुखोंके वशमें होना अपनी हत्या करना ही है । सुखका भोगी व्यक्ति कभी पापों और दुःखोंसे बच ही नहीं सकता । इसलिये जो अपना कल्याण चाहता है, उसके लिये आवश्यक है कि वह किसी वस्तु, परिस्थिति, व्यक्ति आदिके कारण प्रसन्नता या सुखका अनुभव न करे । इनसे प्रसन्न होनेवाला व्यक्ति मुक्त नहीं होता । कर्मयोगमें यही खास बात है । कर्मयोगी सभी कर्तव्य-कर्म करता है, पर संयोगजन्य सुखका भोग नहीं करता । किसी बातसे वह प्रसन्नता नहीं खरीदता ।

त्यागसे सुख होता है । जो पुरुष विरक्त, त्यागी होता है, उसे देखकर दूसरोंको सुख होता है । अतः जो संयोगजन्य सुखोंका भोगी नहीं है, ऐसे त्यागी पुरुष दूसरोंको सुख पहुँचाता है और संसारका बड़ा भारी उपकार करता है । त्यागी महापुरुष संसारका जितनाउपकार करता है, उतना उपकार कोई कर सकता ही नहीं । उसे देखनेसे, उसकी बातें सुननेसे भी दूसरोंको सुख मिलता है । ऐसा महापुरुष यदि एकान्तमें बैठा हो, तो भी संसारके दुःखोंका नाश करता है । उसका भाव संसारको सुख पहुँचानेवाला होता है‒

सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तुनिरामयाः ।

सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चिद् दुःखभाग्भवेत् ॥

अपने प्रति वैर रखनेवालोंको भी वह सुख पहुँचाता है । जिसके हृदयमें अभिमान और स्वार्थ नहीं है, जिसका भाव दूसरोंको सुख पहुँचानेका है, उसकी भगवान्‌की उस शक्तिके साथ एकता हो जाती है, जो संसारमात्रका पालन कर रही है । इसलिये भगवान्‌का किया हुआ उपकार उसीका है । और उसका किया हुआ उपकार भगवान्‌का है । इसलिये जो सुखकी इच्छा और सुखका भोग करता है, वह अपना और संसारका नुकसान करता है । और जो सांसारिक सुखोंका त्यागी तथा भगवान्‌का अनुरागी है, वह संसारमात्रका उपकार करता है ।

नारायण ! नारायण !! नारायण !!!

‒ ‘तात्त्विक प्रवचन’ पुस्तकसे

 ※❖ॐ∥▩∥श्री∥ஜ ۩۞۩ ஜ∥श्री∥▩∥ॐ❖※
 🌹۞☀∥ राधेकृष्ण: शरणम् ∥☀۞🌹
 ※❖ॐ∥▩∥श्री∥ஜ ۩۞۩ ஜ∥श्री∥▩∥ॐ❖※

  🌹: कृष्णा : श्री राधा प्रेमी : 🌹          
 https://plus.google.com/113265611816933398824

⚜धार्मिक पोस्ट पाने या हमारे सत्संग में सामिल होने के लिए हमारे नंम्बर पर " राधे राधे " शेयर करें 💐 🙏🏻
 : मोबाइल नम्बर .9009290042 :

※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें