बुधवार, 24 अगस्त 2016

🚩🔱 ❄ «ॐ»«ॐ»«ॐ» ❄ 🔱🚩

※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※
  🌹🌟 राधे नाम संग हरि बोल 🌟🌹
 ※❖ॐ∥▩∥श्री∥ஜ ۩۞۩ ஜ∥श्री∥▩∥ॐ❖※

   🌹🔱💧संत अमृत वाणी💧🔱🌹

❄सेवा (परहित) :

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

          दूसरोंका अहित करनेसे अपना अहित और दूसरोंका हित करनेसे अपना हित होता है‒यह नियम है ।

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

      संसारका सम्बन्ध ‘ऋणानुबन्ध’ है । इस ऋणानुबन्धसे मुक्त होनेका उपाय है‒सबकी सेवा करना और किसीसे कुछ न चाहना ।

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

साधक परमात्माके सगुण या निर्गुण किसी भी रूपकी प्राप्ति चाहता हो, उसे सम्पूर्ण प्राणियोंके हितमें रत होना अत्यन्त आवश्यक है ।

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

साधकको संसारकी सेवाके लिये ही संसारमें रहना है, अपने सुखके लिये नहीं ।

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

सच्चे हृदयसे भगवान्‌की सेवामें लगे हुए साधकके द्वारा प्राणिमात्रकी सेवा होती है; क्योंकि सबके मूल भगवान्‌ ही हैं ।

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

साधकको अपने ऊपर आये हुए बड़े-से-बड़े दुःखको भी सह लेना चाहिये और दूसरेपर आये छोटे-से-छोटे दुःखको भी सहन नहीं करना चाहिये ।

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

दूसरोंको सुख पहुँचानेकी इच्छासे अपनी सुखेच्छा मिटती है ।

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

किसीको किंचिन्मात्र भी दुःख न हो‒यह भाव महान्‌ भजन है ।

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

जैसे मनुष्य आफिस जाता है तो वहाँ केवल आफिसका ही काम करता है, ऐसे ही इस संसारमें आकर केवल संसारके लिये ही काम करना है, अपने लिये नहीं । फिर सुगमतापूर्वक संसारसे सम्बन्ध-विच्छेद और नित्यप्राप्त परमात्माका अनुभव हो जायगा ।

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

समय, समझ, सामग्री और सामर्थ्य‒इन चारोंको अपने लिये मानना इनका दुरुपयोग है और दूसरोंके हितमें लगाना इनका सदुपयोग है ।

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

संयोगजन्य सुखके मिलनेसे जो प्रसन्नता होती है, वही प्रसन्नता अगर दूसरोंको सुख पहुँचानेमें होने लग जाय तो फिर कल्याणमें सन्देह नहीं है ।

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

हमें जो सुख-सुविधा मिली है, वह संसारकी सेवा करनेके लिये ही मिली है ।

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

मनुष्यशरीर अपने सुख-भोगके लिये नहीं मिला है, प्रत्युत सेवा करनेके लिये, दूसरोंको सुख देनेके लिये मिला है ।

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

मनुष्यको भगवान्‌ने इतना बड़ा अधिकार दिया है कि वह जीव-जन्तुओंकी, मनुष्योंकी, ऋषि-मुनियोंकी, सन्त-महात्माओंकी, देवताओंकी, पितरोंकी, भूत-प्रेतोंकी, सबकी सेवा कर सकता है । और तो क्या, वह साक्षात् भगवान्‌की भी सेवा कर सकता है !

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

(शेष आगेके ब्लॉगमें)

‒ ‘अमृत-बिन्दु’ पुस्तकसे

 ※❖ॐ∥▩∥श्री∥ஜ ۩۞۩ ஜ∥श्री∥▩∥ॐ❖※
 🌹۞☀∥ राधेकृष्ण: शरणम् ∥☀۞🌹
 ※❖ॐ∥▩∥श्री∥ஜ ۩۞۩ ஜ∥श्री∥▩∥ॐ❖※

  🌹: कृष्णा : श्री राधा प्रेमी : 🌹          
 https://plus.google.com/113265611816933398824

🌹धार्मिक पोस्ट पाने या हमारे सत्संग में सामिल होने के लिए हमारे नंम्बर पर " राधे राधे " शेयर करें 💐
 : मोबाइल नम्बर .9009290042 :

※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें