रविवार, 28 अगस्त 2016

🚩🔱 ❄ «ॐ»«ॐ»«ॐ» ❄ 🔱🚩

※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※
  🌹🌟 राधे नाम संग हरि बोल 🌟🌹
 ※❖ॐ∥▩∥श्री∥ஜ ۩۞۩ ஜ∥श्री∥▩∥ॐ❖※

   🌹🔱💧संत अमृत वाणी💧🔱🌹

❄ सन्त और उनकी सेवा :

(गत ब्लॉग से आगेका)

        वास्तवमें भगवान्‌ भगवान्‌ ही हैं । सन्त सन्त ही है । सन्त भगवान्‌के बराबर नहीं, भगवान्‌ उससे बड़े हैं । सन्तके ज्ञान, सामर्थ्य, शक्ति आदि सीमित हैं और भगवान्‌का सब कुछ अनन्त और असीम है । माना, सन्त भगवान्‌को प्राप्त हो गया और दूसरेको भी उनकी प्राप्ति करा सकता है, पर वह भगवान्‌ नहीं बन जाता ।न्यायसे भी यह ठीक लगता है । जैसे जब हमें कोई सन्त मिलता है तो हम कहते हैं‒ ‘महाराजजी ! भगवान्‌के दर्शन करा दो ।’ इससे प्रत्यक्ष है कि सन्तके मिलनेसे हमारी आत्यन्तिक तृप्ति नहीं हुई; उनसे बड़ी जो एक वस्तु‒भगवान्‌ है, उनको पानेकी इच्छा बनी रही । इससे स्वाभाविक ही भगवान्‌का बड़ा होना प्रकट होता है औरसन्त सदा भगवान्‌को बड़ा मानते आये हैं ।

       सन्त भगवान्‌से बढ़कर हैं गोस्वामी तुलसीदासजी कहते हैं‒

राम सिंधु घन सज्जन धीरा । चंदन तरु हरि संत समीरा ॥

मोरें मन प्रभु अस बिस्वासा । राम तें अधिक राम कर दासा ॥

      श्रीभगवान्‌ने भी दुर्वासासे कहा है‒

अहं भक्तपराधीनो ह्यस्वतन्त्र इव द्विज ।

साधुभिर्ग्रस्तहृदयो भक्तैर्भक्तजनप्रियः ॥

      सन्तोंने तो भगवान्‌को बड़ा बतलाया और भगवान्‌ सन्तोंको बड़ा बतलाते हैं । परन्तु सन्तोंको भगवान्‌ और सन्त दोनों ही बड़ा बतलाते हैं । भगवान्‌ने कहीं भीअपनेको सन्तसे बड़ा बतलाया हो‒ऐसा देखनेमें नहीं आया । इस दृष्टिसे बड़े हुए सन्त ही और हम यदि अपने लाभके लिये विचार करते हैं तो भी सन्त ही बड़े हैं; क्योंकि परमात्माके सच्चिदानन्दरूपमें जीवमात्रके हृदयमें रहते हुए भी सन्त-कृपा और सत्संगके बिना भगवान्‌के उस परम आनन्दमय स्वरूपके अनुभवसे वंचित रहकर जीव दुःखी ही रहते हैं । भगवत्स्वरूपका अनुभव तो भगवद्भक्तिसे ही होता है और वह मिलती है सन्त-कृपा और सत्संगसे‒

भगति तात अनुपम सुख मूला । मिलइ जो होहिं संत अनुकूला ॥

भगति स्वतंत्र सकल गुन खानी । बिनु सतसंग न पावहिं प्रानी ॥

      अतएव हमारे लिये तो सन्त ही बड़े हुए । भगवत्कृपासे प्राप्त हुए मानवदेहका फल मनुष्यके कर्म एवं साधनके अनुसार स्वर्ग, नरक अथवा मोक्ष‒सभी हो सकता है । किन्तु सन्तोंकी कृपासे प्राप्त हुए सत्संगका फल केवल परम पद ही होता है । भगवान्‌ तो दुष्टोंका उद्धार करते हैं उनका विनाश करके, पर सन्त दुष्टोंका उद्धार करते हैं उनकी वृत्तियोंका सुधार करके । भगवान्‌ अपने बनाये हुए कानूनमें बँधे हुए हैं । परन्तु सन्तोंमें दया आ जाती है । इस प्रकार भी सन्त भगवान्‌से बड़े हैं । भगवान्‌ सब जगह मिल सकते हैं, पर सन्त कहीं-कहीं ही हैं । अतएव वे भगवान्‌से दुर्लभ भी हैं‒

हरि दुरलभ नहिं जगत में,   हरिजन दुरलभ होय ।

हरि हेर्‌याँ सब जग मिलै, हरिजन कहिं एक होय ॥

      हमारा उद्धार करनेमें तो सन्त ही बड़े हुए, अतएव हमें उन्हींको बड़ा मानना चाहिये ।

      तात्त्विक दृष्टिसे देखें तो सन्त और भगवान्‌ दोनों एक ही हैं; क्योंकि सन्त भगवान्‌से पृथक् अपनी आसक्ति, ममता, रुचि आदि नहीं रखते । अतः वे भगवत्स्वरूप ही हैं‒

भक्ति भक्त भगवंत गुरु चतुर नाम, बपु एक ।

इन के पद बंदन किएँ नासत बिघ्न अनेक ॥

    (शेष आगेके ब्लॉगमें)

‒ ‘जीवनका कर्तव्य’ पुस्तकसे

 ※❖ॐ∥▩∥श्री∥ஜ ۩۞۩ ஜ∥श्री∥▩∥ॐ❖※
 🌹۞☀∥ राधेकृष्ण: शरणम् ∥☀۞🌹
 ※❖ॐ∥▩∥श्री∥ஜ ۩۞۩ ஜ∥श्री∥▩∥ॐ❖※

  🌹: कृष्णा : श्री राधा प्रेमी : 🌹          
 https://plus.google.com/113265611816933398824

🌹धार्मिक पोस्ट पाने या हमारे सत्संग में सामिल होने के लिए हमारे नंम्बर पर " राधे राधे " शेयर करें 💐
 : मोबाइल नम्बर .9009290042 :

※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें