गुरुवार, 26 जनवरी 2017

🚩🔱 ❄ «ॐ»«ॐ»«ॐ» ❄ 🔱🚩

  🌹🌸🌹संत अमृत वाणी🌹🌸🌹
※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※
  🌹🌟 राधे नाम संग हरि बोल 🌟🌹
 ※❖ॐ∥▩∥श्री∥ஜ ۩۞۩ ஜ∥श्री∥▩∥ॐ❖※

🌹 सत्‌-असत्‌ का विवेक :

( गत ब्लॉग से आगे का )

(१६)

       भूतकाल और भविष्यकालकी घटना जितनी दूर दीखती है, उतनी ही दूर वर्तमान भी है । जैसे भूत और भविष्यसे हमारा सम्बन्ध नहीं है, तो फिर भूत भविष्य और वर्तमानमें क्या फर्क हुआ ? ये तीनों कालके अन्तर्गत हैं, जबकि हमारा स्वरूप कालसे अतीत है । कालका तो खण्ड होता है, पर स्वरूप (सत्ता) अखण्ड है । शरीरको अपना स्वरूप माननेसे ही भूत, भविष्य और वर्तमानमें फर्क दीखता है । वास्तवमें भूत, भविष्य और वर्तमान विद्यमान है ही नहीं‒‘नासतो विद्यते भावः’ ।

(१७)

        संसारमें भाव और अभाव‒दोनों दीखते हुए भी ‘अभाव’ मुख्य रहता है । परमात्मामें भाव और अभाव‒दोनों दीखते हुए भी ‘भाव’ मुख्य रहता है । संसारमें ‘अभाव’ के अन्तर्गत भाव-अभाव हैं और परमात्मामें ‘भाव’ के अन्तर्गत भाव-अभाव हैं । दूसरे शब्दोंमें, संसारमें ‘नित्यवियोग’ के अन्तर्गत संयोग-वियोग हैं और परमात्मामें ‘नित्ययोग’ के अन्तर्गत योग-वियोग (मिलन -विरह) है । अतः संसारमें अभाव ही रहा और परमात्मामें भाव ही रहा ।

(१८)

        असत्‌का भाव नहीं है और सत्‌का अभाव नहीं है; अतः सत्‌ स्वतः विद्यमान है । जो स्वतः विद्यमान है, वही परमात्मा हैं ।जो पहले नहीं था, पीछे नहीं रहेगा और अभी नहींमें जा रहा है, उसे सत्ता देना, महत्ता देना और उससे सम्बन्ध जोड़ना ही खास बाधा है । अतः उसे सत्ता न दे, महत्ता न दे और उसीसे सम्बन्ध न जोड़े अर्थात्‌ उसे अपना न माने । जिसका कभी अभाव नहीं होता, उसको ही सत्ता दे, उसको ही महत्ता दे और उसीको अपना माने । जो नहीं है, उसका महत्त्व कैसा ? महत्त्व तो उसीका है, जो है और वही अपना है ।

      जो नहीं है, उससे तटस्थ, बेपरवाह, निर्लेप, निरपेक्ष, उदासीन, विमुख होना है; उससे चिपकाना नहीं है । वास्तवमें हम असत्‌ (वस्तु, व्यक्ति और क्रिया) से निर्लेप हैं; क्योंकि हम उसके भाव-अभावको, उत्पत्ति-विनाशको, संयोग-वियोगको और आदि-अन्तको जानते हैं । इस प्रकार अपनेको निर्लेप अनुभव करके चुप हो जायँ अर्थात्‌ चुप होकर स्थित रहें तो स्वतःसिद्ध सत्ता (सत्‌-तत्त्व) का स्पष्ट अनुभव हो जायगा । वास्तवमें सत्‌-तत्त्व स्वतःसिद्ध है, केवल असत्‌से विमुख होना है । अगर हम असत्‌को अस्वीकार कर दें तो वह रहेगा ही नहीं; क्योंकि वह है ही नहीं, उसमें रहनेकी ताकत ही नहीं है‒‘नासतो विद्यते भावः’ ।

        श्रीमद्भागवतमें आया है‒
‘अतत्त्यजन्तो मृगयन्ति सन्तः’ (१०/१४/२८)
 ‘सन्तलोग संसारका त्याग करते हुए परमात्मतत्त्वकी खोज करते हैं ।’खोजनेसे वह चीज मिलती है, जो पहले ही मौजूद हो । उसको खोजनेका उपाय है‒जो मौजूद नहीं है, उसको छोड़ते जाना । छोड़नेका तात्पर्य है‒उसकी सत्ता और महत्ता न मानना तथा उससे अपना सम्बन्ध न मानना, उसको अस्वीकार करना ।

नारायण ! नारायण !! नारायण !!!

‒ ‘अमरताकी ओर’ पुस्तकसे

 ※❖ॐ∥▩∥श्री∥ஜ ۩۞۩ ஜ∥श्री∥▩∥ॐ❖※
 🌹۞☀∥ राधेकृष्ण: शरणम् ∥☀۞🌹
 ※❖ॐ∥▩∥श्री∥ஜ ۩۞۩ ஜ∥श्री∥▩∥ॐ❖※

🌹: कृष्णा :: श्री राधा प्रेमी :🌹
https://plus.google.com/113265611816933398824

          🌹एक बार प्रेम से बोलिए ..
          🌸 जय जय " श्री राधे ".....
          🌹प्यारी श्री .....  " राधे "🌹
※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें